How To Write (And Not Write) About Abortion



To mark the Global Day for Access to Safe and Legal Abortion (28 September), Love Matters brings to you a handy guide to words and phrases that should be avoided when reporting about abortion, along with alternatives for these words.

Abortion or medical termination of pregnancy is a sensitive issue because of the conflicting opinions people hold about it. Unfortunately and frequently, media-descriptions can add to the problem by sending out unscientific and incorrect meanings thereby, making it seem like an evil and undesirable practice.

Sex Before Marriage - Good or Bad?



17 Empowering Quotes By Women Leaders For The Times You Feel Your Career Is Going Nowhere

The path to success is not a straight one. And nobody knows it better than these powerful women who have been a source of inspiration to all. Their ethics, work principles and commitment to a higher objective makes them truly deserving of the positions they hold.

Here are 17 quotes on career, leadership and life by these empowering women.

Sabse Bada Rog Kya Kahenge Log

Source - Sandeep Maheshwari Youtube Channel

18 Things That Just Aren’t Worth The Money We Spend On Them

Ever heard of 'Too much money and too little worth'? These 18 things epitomize this phrase! 

1. iPhone X

It's costs as much as an international trip and doesn't give you anything that some other smartphone can't! 

Source: expertreviews

मुसलमान चाय में थूक मिला देते हैं और ऐसे ही अनेक पूर्वाग्रह जिसके बीच मैं बड़ा हुआ

ट्विटर और फेसबुक के ज़माने से पहले जब किसी हिन्दु को मुसलमान या मुसलमान को हिन्दु के प्रति भड़ास निकालनी होती थी तब चाय की चुस्कियों में या फिर दोस्तों की मजलिस के बीच तंज कसे जाते थे। अब जब देश डिजीटल हो रहा है ऐसे में हिन्दु और मुसलमान खासकर ट्विटर और फेसबुक पर जमकर एक दूसरे के प्रति भड़ास निकाल रहे हैं। सोशल साइट्स पर ऐसे लोगों की काफी तादात हो चुकी है जो वीडियो के ज़रिए धर्म पर टिप्पणी करते नज़र आते हैं। हिन्दु और मुसलमानों के बीच की वैचारिक मतभेद अब सिर्फ दो मज़हब के बीच की दूरी नहीं बल्कि दो विचारधाराओं की लड़ाई में तब्दील हो चुकी है। मुसलमानों को लेकर कई ऐसी बाते हैं जो आज भी ग्रामीण इलाकों, शहरों और महानगरों में प्रचलित हैं।

अरे जौहर छोड़ो पहले दहेज की आग में जलने वाली महिलाओं के बारे में सोचो

आप गुस्सा हैं और होना भी चाहिए, आखिर देश की शान की बात जो है। लेकिन ऐसी ही शान और ताकत तब भी दिखाने की ज़रूरत है, जब किसी नारी पर अत्याचार हो रहा हो। किसी महिला को प्रताड़ित किया जा रहा हो। कोई औरत आग में जल रही हो और वो आग जौहर की नहीं दहेज की आग है।


यह मेरा नहीं इस देश की हर महिला और हर बेटी का कहना है। उसका सवाल है कि एक फिल्म के विरोध में अपनी ताकत दिखाने वालों आप तब कहां थे जब देश में किसी औरत पर अत्याचार हो रहा था? तब जब दहेज की आग में देश की कई बेटियां जल रही थी? आज एक फिल्म के विरोध में पूरा देश खड़ा है, लेकिन यह देश तब एकसाथ नहीं होता जब एक औरत को दहेज के लिए ज़िन्दा जला दिया जाता है।

An Open Letter To The Society That Considers Open Relationships A Crime

Dear Society,

In my individual opinion, I feel that love and sex should be treated differently. Why I feel so? I will share my thoughts here. When a person is single, he/she is trying to mingle with their preferred opposite sex. They have all the freedom in the world to sleep around with the person they want, with consent, of course. Yet, they don't have to think much about cheating as morally they are not bound by contract, or married. Some people choose to do sex, only post their marriage, which is also fine.
The point I am trying to share here is, what if I chose to marry a person because of my own will and not just to get laid? Sexually, I may have different preferences, I might be someone who prefers more partners but emotionally, I need only one, would this still count as cheating?
Open Relationships A Crime के लिए इमेज परिणाम

M1

Follow by Email

Followers